जल निगम निदेशक मण्डल

अंतिम नवीनीकृत : सोमवार, Jul 18 2022 5:29PM

अध्यक्ष के अतिरिक्त, निगम के 11 अन्य सदस्य हैं। अध्यक्ष और सदस्य सरकार द्वारा मनोनीत किए जाते हैं। सरकार द्वारा नामित जल निगम के प्रबंध निदेशक वे इंजीनियर होते हैं जिन्हें इस जल आपूर्ति और सीवरेज सिस्टम का कुशल ज्ञान एवं प्रशासनिक अनुभव होता है अथवा राज्य सरकार द्वारा नियुक्त राज्य सरकार के सचिव के पद के भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी होते हैं। वित्त निदेशक, जिनके पास वित्तीय और लेखा संबंधित क्षेत्र का अनुभव होता है, उन्हें भी सरकार द्वारा नामित किया जाता है। जल निगम के निदेशक मंडल में वर्तमान में निम्नलिखित सदस्य हैं:-

स्थायी सदस्य

पदेन सदस्य

अध्यक्ष

प्रमुख सचिव/सचिव, वित्त, उत्तर प्रदेश सरकार

प्रबंध निदेशक

प्रमुख सचिव/सचिव, शहरी विकास विभाग, उत्तर प्रदेश सरकार

संयुक्त प्रबंध निदेशक (प्रशासन)
संयुक्त प्रबंध निदेशक (नगर)

प्रमुख सचिव/सचिव, आवास एवं शहरी नियोजन विभाग, उत्तर प्रदेश सरकार

वित्त निदेशक

प्रमुख सचिव/सचिव, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास विभाग, उत्तर प्रदेश

 

प्रमुख सचिव/सचिव, योजना विभाग, उत्तर प्रदेश

 

निदेशक, स्थानीय निकाय, उ.प्र

 

निदेशक, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं, उ.प्र

उपरोक्त के अतिरिक्त, राज्य में स्थानीय निकायों के 5 निर्वाचित प्रमुख राज्य सरकार द्वारा मनोनीत किए जाएंगे।

उत्तर प्रदेश जलापूर्ति एवं सीवरेज प्रणाली अधिनियम-1975 (अधिनियम संख्या-43, वर्ष-1975) धारा-4 एवं 6 में उपरोक्त उल्लेखों के अतिरिक्त निम्नलिखित संशोधन किये गये हैं :-

"सामाजिक और सार्वजनिक क्षेत्र में 3 से अधिक निर्दिष्ट प्रसिद्ध गैर-सरकारी लोगों को उपाध्यक्ष के रूप में नामित नहीं किया जाएगा" वर्तमान में कोई उपाध्यक्ष तैनात नहीं है।